World Yog Diwas |21 June Yog Din |योग दिन किसे कहते है ,प्रकार,योग मुद्राएं ,फायदे ,सावधानिए

0
34
World Yog Diwas
विश्व योग दिन

World Yog Diwas । विश्व योग दिवस हिंदी जानकारी

आज के इस लेख के अंतर्गत हम विश्व योग दिवस (World Yog Diwas)के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने वाले है। प्रतिवर्ष 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाया जाता है। योग को आज पूरी दुनिया में मान्यता दी जा रही है। विश्व योग दिवस मनाने का सारा श्रेय भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया जाना चाहिए। पूरे विश्व में योग दिवस मनाने के पीछे भारत की भूमिका अहम मानी जाती है। तो आइए एक नजर डालते हैं विश्व योग दिवस के उपलक्ष्य में भारत की भूमिका पर।

Role Of India in Celebrating World Yog Diwas | योग दिवस मनाने में भारत की भूमिका

योग का महत्व आज पूरी दुनिया में पहुंच गया है। क्या भारत में हर कोई जानता था कि अगर हर कोई अच्छा स्वास्थ्य चाहता है तो योग करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है?? यह ज्ञान पूरे ब्रह्मांड के लिए उपयोगी होना चाहिए। इसके लिए सितंबर 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसी बैठक में कहा था कि यदि योग मानव जीवन को सुखद बनाने ,विभिन्न बीमारियों पर काबू पाने के लिए उपयोगी है तो योग को न केवल भारत में ही बल्कि भारत के बाहर भी फैलाना चाहिए।

इसीलिए नरेंद्र मोदी ने इस महासभा में अपने भाषण में विश्व योग दिवस को पूरी दुनिया में मनाने के लिए विस्तृत चर्चा की थी। कई देश पहले से ही योग और उसके महत्व के बारे में जानते थे तो कई देशों ने विश्व योग दिवस के उत्सव को मंजूरी दी।

Why Yog Diwas Celebrated On 21st June | विश्व योग दिवस 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है

धीरे-धीरे योग दिन भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया में फैलता जा रहा है। दुनिया भर के लोगों को इसका लाभ उठाना चाहिए और अपने कल्याण का ध्यान रखना चाहिए। हमें अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए। इन्हीं सभी मुद्दों को ध्यान में रखकर संयुक्त राष्ट्र महासभा ने विश्व योग दिवस के उत्सव को अधिकृत किया। लेकिन इसके लिए योग्य दिन कौन सा होगा यह एक बहुत बड़ा प्रश्न था। परंतु भारत के योग दिवस के खोज के कारण 21 जून को विश्व योग दिवस या अंतरराष्ट्रीय योग दिवस चुना गया था। 21 जून को ही योग दिन क्यों चुना गया था इसका एक वैज्ञानिक कारण भी है।

21 जून को सबसे बड़ा दिन माना जाता है। इस दिन सुबह से शाम तक की अवधि अन्य दिनों की तुलना में अधिक लंबी होती है। इसीलिए 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में चुना गया था। आज योग दिवस न होकर एक आंदोलन बन गया है।

What is YOG | योग किसे कहते है

योग शब्द का सरल अर्थ होता है जुड़ना। इसका अर्थ यह होता है कि योग वह क्रिया है जिसके माध्यम से शरीर और मन जुड़े होते हैं। अर्थात शरीर और मन को जोड़ना ही योग कहलाता है। योग से शरीर में अच्छे स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य और आध्यात्मिक प्रगति की उम्मीद भी की जाती है। एक सरल भाषा में कहें तो तन और मन का व्यायाम भी योग कहलाता है।

विश्व योग दिन
विश्व योग दिन

Types Of Yog | योग के प्रकार

अष्टांग योग
बिक्रम योग
हठ योग
अयंगर योग
जीवमुक्ति योग
कृपालु योग
कुंडलिनी योग
राजयोग
कर्मयोग
भक्तियोग
ज्ञान योग
तंत्र योग
लय योग

Yog mudra | योग की मुद्राएं

स्थायी योग
बैठ कर करनेवाले योग
पेट योगा की मुद्रा में लेटना
पीठ के बल बैठकर लेटकर योगा

World Yog Diwas 2022 Theme | विश्व योग दिवस 2022 थीम

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 का विषय “मानवता के लिए योग” है।

World Yog Diwas 2022 Theme Importance | विश्व योग दिवस 2022 थीम महत्त्व

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 की थीम करुणा, दया, एकता की भावना को बढ़ावा देगी और दुनिया भर के लोगों में लचीलापन पैदा करेगी।

World Yog Diwas 2021 Theme | विश्व योग दिवस 2021 थीम

कोविड -19 महामारी के दौरान आयोजित पिछले साल के अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का विषय “योग फॉर वेलनेस” था।

Benefits of Yog | योग के फायदे

👉हृदय गति को नियमित रखता है।
👉योग करने से मन खुश रहता है।
👉योग करने से शारीरिक बीमारियां दूर होती है।
👉ब्लड प्रेशर को कम करने में सहायता करता है।
👉शरीर में रक्त प्रवाह की गति बढ़ जाती है।
👉योग शरीर में आंतरिक शक्ति बढ़ाने में मददगार होता है।
👉हड्डियों के स्वास्थ्य को मजबूत करता है।
👉योग ध्यान केंद्रित करने में सहायक होता है।
👉मन भटकने की बीमारी योग के माध्यम से दूर की जाती है।
👉अच्छी नींद तथा मन में शांति प्रदान करने में योग मददगार साबित होता है।

Precaution before doing Yoga। योग करने से पहले ध्यान देने वाली महत्त्वपूर्ण बाते

👉योग करने के लिए एक निश्चित जगह का चुनाव करें।
👉यदि आप बीमार हैं तो इस स्थिति में योग ना करें।
👉एक योग्य सलाहकार से ही सुझाव लेकर योगा करें।
👉फेसबुक यूट्यूब या टीवी चैनल देखकर योगा नहीं करना चाहिए।
👉योगा हमेशा सुबह के समय करना चाहिए।
👉खाने के बाद योगा नहीं करना चाहिए हमेशा योगा खाने के पहले ही करना चाहिए।

सारांश

तो इस प्रकार मित्रों आज हमने इस लेख के माध्यम से योग किसे कहते हैं? योग के कितने प्रकार हैं? 21 जून को ही योग दिवस क्यों मनाया जाता है? योग के क्या-क्या फायदे हैं? योग करने के पहले कौन सी सावधानी बरतनी चाहिए जैसे अनेक मुद्दों के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त की। जानकारी में अंत तक बने रहने के लिए आप सभी का कोटि-कोटि धन्यवाद। जानकारी से संबंधित यदि कोई भी प्रश्न है तो उसे कमेंट बॉक्स में लिखें। मैं आपके प्रश्न का उत्तर देने का शीघ्र से शीघ्र प्रयत्न करगा।

👉 वोटर id मे Correction

👉 Pan Card बनाये 5 मिनट में

👉 आधार card मे Correction

👉 फ्री राशन  कार्ड apply 

 👉ई-पासपोर्ट क्या हैं 

 👉 How to Apply for PVC Aadhar Card

योग दिन कब मनाया जाता हैं ?

प्रत्येक वर्ष 21 जून को

योग दिन 2022 की थीम (theme) क्या हैं ?

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 का विषय “मानवता के लिए योग” है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here