NO SMOKING DAY |धूम्रपान से कैसे बचे

0
1647
NO SMOKING DAY

साथियों आज के इस आर्टिकल के माध्यम से आपको जानकारी देने वाला हूं कि किस प्रकार धूम्रपान(NO SMOKING DAY) शरीर के लिए हानिकारक होता है? यदि धूम्रपान को छोड़ना है तो क्या-क्या करना चाहिए? जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाला। पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप मेरे साथ इस आर्टिकल में अंत तक बनी रहे।

प्रस्तावना (NO SMOKING DAY)

साथियों हम सभी जानते हैं कि समाज में धूम्रपान करने वालों की संख्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। विगत कुछ वर्षों में ऐसा पाया गया है कि धूम्रपान करने वालों में नवयुवकों की संख्या में काफी बढ़ोतरी पाई गई है। सिगरेट के पैकेट पर यह लिखा होता है कि सिगरेट पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है फिर भी लोग सिगरेट धड़ल्ले से पीते जा रहे हैं,

इसका  तात्पर्य है कि वैधानिक चेतावनी लिखी जाने के बावजूद भी लोगों को अपने स्वास्थ्य के प्रति कोई भी जिम्मेदारी नहीं दिखाई पड़ती है। इसीलिए हर वर्ष 9 मार्च को धूम्रपान निषेध अर्थात नो स्मोकिंग डे के रूप में मनाया जाता है ताकि लोग अपने आप को धूम्रपान से बचा सके और अपने स्वास्थ्य की रक्षा कर सकें।

9 मार्च अर्थात नो स्मोकिंग डे(NO SMOKING DAY)

देश में हर साल 9 मार्च को नो स्मोकिंग मनाया जाता है। यह खास दिन लोगों को धूम्रपान की लत छुड़वाने और सेहत को स्मोकिंग से होने वाले नुकसान के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। धूम्रपान की जो आदत होती है फेफड़े के साथ-साथ पूरे स्वास्थ्य को प्रभावित करती है।

धूम्रपान की लत से बचने के उपाय

योगासन और व्यायाम

योगासन और व्यायाम करने वाला व्यक्ति हमेशा अपने आप को फिट और तरोताजा रखता है। अगर व्यक्ति योगासन और व्यायाम करता है तो धूम्रपान के प्रति उसकी इच्छा दिन पर दिन कम होती जाती है। अर्थात कहने का तात्पर्य यह है कि योगासन और व्यायाम के माध्यम से व्यक्ति अपने आपको धूम्रपान से दूर रख सकता है।

धूम्रपान करने वालों से दूर रखकर

यदि आप अपने को धूम्रपान से बचाना चाहते हैं तो आपको ऐसे लोगों से दूर रखना पड़ेगा जो धूम्रपान में पूरी तरह से सम्मिलित है। क्योंकि यदि आप धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों के संपर्क में रहते हैं तो आज नहीं तो कल आप भी धूम्रपान  करना सीख जाएंगे। इसीलिए सबसे सरल उपाय यह है कि आप को धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों से दूर रहना पड़ेगा।

इच्छा शक्ति

अगर आप वाकई सिगरेट की लत छुड़ाना चाहते हैं तो अपने लिए खुद एक समय सीमा तय करें। उसके बाद भी सिगरेट पीने की तलब लगे तो लंबी सांस भरते हुए पानी पी लें ऐसा करने से आपका ध्यान भटक जाएगा।

भविष्य के बारे में सोचें

व्यक्ति को जब भी सिगरेट पीने के बारे में ख्याल आए तो उसे अपने करियर, परिवार या बच्चों की सेहत के बारे में सोचना चाहिए ।इन सभी मुद्दों को सोचने से व्यक्ति अपने आपको सिगरेट पीने से दूर रख सकता है।

नींबू पानी के सेवन से

जानकारों का ऐसा कहना है कि सुबह उठते ही यदि आप दो गिलास गुनगुने पानी में नींबू  मिलाकर पीते हैं तो इससे सिगरेट पीने की लत से छुटकारा पाया जा सकता है|

डॉक्टर की सलाह

डॉक्टर की सलाह लेकर निकोटीन का रिप्लेसमेंट लेना भी आपको सिगरेट की लत से छोड़ने में मददगार हो सकता है।

सौफ का उपयोग

यदि आप खाने के बाद सौफ का उपयोग करते हैं तो धूम्रपान की आदत से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं।

धूम्रपान सेवन से होने वाली बीमारियां

धूम्रपान सेवन करने से कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, फेफड़े की बीमारी , टीवी जैसी गंभीर बीमारियां जन्म लेती है। पुरुषों में 50% और महिलाओं में 20 परसेंटेज कैंसर का कारण भी तंबाकू ही है| इसके अलावा 40% केसो में भी टीवी कारण बनता है।

धूम्रपान या तंबाकू सेवन के छोड़ने से होने वाले फायदे

👉 शरीर में ऑक्सीजन का स्तर सामान्य हो जाता है।

👉 फेफड़े की कार्य क्षमता बढ़ जाती है।

👉 खांसी और सांस की तकलीफ दूर हो जाती है।

👉 हृदय से संबंधित किसी भी रोग की गुंजाइश कम हो जाती है।

👉 फेफड़े के कैंसर जैसे रोग से व्यक्ति निजात पा जाता है।

स्मोकिंग में पुरुषों की संख्या अधिक

एक सर्वे से पता चला है कि 15 साल से ज्यादा आयु वर्ग में तंबाकू का सेवन करने वाली महिलाओं का प्रतिशत 8.9% है। अगर पुरुषों की बात करें तो 38% पुरुष तंबाकू का सेवन करते हैं |शहर  के मुकाबले गांव में तंबाकू का सेवन ज्यादा मात्रा में किया जाता है।

हल्का धूम्रपान और भारी धूम्रपान दोनों ही खतरनाक

समाज में ऐसे कई व्यक्ति आपको मिलेंगे जो  कहते हैं कि मै दिन में  2 से 3 सिगरेट पीता है। अर्थात उनके कहने का यह तात्पर्य होता है कि 2 से 3 सिगरेट पीने से शरीर पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ता है। पर ऐसी कोई बात नहीं है चाहे आप हल्के धूम्रपान करें या भारी धूम्रपान करें दोनों ही स्वस्थ और फेफड़े के लिए हानिकारक होता है।

अर्थात यदि कोई व्यक्ति दिन में 5 या उससे कम सिगरेट पीता है तो उनके फेफड़ों की कार्य क्षमता में उतनी ही कमजोरी आएगी जितनी 1 दिन में 30 से अधिक सिगरेट पीने वालों की होती है। एक अध्ययन से तो अभी पता चला है कि एक हल्के धूम्रपान करने वाले को फेफड़ों में जितना नुकसान 1 साल में पहुंचता है भारी स्मोकर उस इंसान को 9 महीने में ही पहुंचा देता है।

एक सिगरेट में कितने हानिकारक केमिकल

यदि आवश्यक बात करें तो धूम्रपान करने वाला 5 मिनट की अवधि में सिगरेट के 10 कश लेता है। यदि व्यक्ति प्रतिदिन 25 सिगरेट पीता है तो उसे 250 बार निकोटीन का हिट प्राप्त होगा | निकोटीन सिगरेट में पाए जाने वाले जहरीले रसायनों में से एक है। निकोटीन के साथ-साथ करीब 7000 रसायन निकलते हैं |इन रसायन में 69 रसायन कैंसर पैदा करने वाले होते हैं।

👉 वोटर id मे Correction

👉 Pan Card बनाये 5 मिनट में

👉 आधार card मे Correction

👉 फ्री राशन  कार्ड apply 

 👉ई-पासपोर्ट क्या हैं 

 👉 How to Apply for PVC Aadhar Card

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here