MAKAR SANKRANTI 2023: जानिए इस वर्ष कब मनाया जायेगा मकर संक्रांति का त्यौहार

0
6

MAKAR SANKRANTI 2023: जानिए इस वर्ष कब मनाया जायेगा मकर संक्रांति का त्यौहार

MAKAR SANKRANTI 2023 किसे कहते है?

हिंदुओं में मकर संक्रांति का त्यौहार बहुत ही विशेष त्योहार के रूप में जाना जाता है। ज्योतिषियों के अनुसार यदि बात करें तो मकर संक्रांति पर सूर्य धनु राशि की यात्रा को विराम देते हुए मकर राशि में प्रवेश करता है। इसी कारण से इसे मकर संक्रांति कहते हैं। मकर संक्रांति पर अक्सर पाया जाता है कि सूर्य उत्तरायण होते हैं। सांस्कृतिक, धार्मिक और ज्योतिषी नजरियो से यह त्यौहार हिंदुओं में काफी खास त्यौहार के रूप में मनाया जाता है। हर वर्ष मकर संक्रांति का त्यौहार 14 जनवरी को मनाया जाता है। परंतु इस वर्ष यह त्यौहार 15 जनवरी को मनाया जाएगा। ज्योतिषी कैलेंडर के अनुसार इस वर्ष सूर्य 14 जुलाई 2023 की रात 8:21 पर मकर राशि में गोचर करेंगे`|ऐसे में मकर संक्रांति का त्यौहार इस वर्ष 15 जनवरी 2023 को मनाया जाएगा |मकर संक्रांति त्योहार के बाद मौसम में काफी बदलाव नजर आता है। धीरे-धीरे से शरद ऋतु जाने लगती है और बसंत ऋतु का आगमन होने लगता है। मकर संक्रांति के बाद दिन भी काफी लंबे होने लगते हैं और रात्रि छोटी होने लगती है।

MAKAR SANKRANTI 2023 SHUBH MUHURAT AND POOJA VIDHI

शुभ मुहूर्त

जैसा कि हम सभी जान गए हैं कि इस वर्ष मकर संक्रांति का त्यौहार 15 जनवरी 2023 को मनाया जाने वाला है|ज्योतिषी कैलेंडर के अनुसार इस वर्ष सूर्य 14 जनवरी 2023 की रात 8:21 पर मकर राशि में प्रवेश करेंगे |इसलिए इसका पुण्य काल व मकर संक्रांति का स्नान दान 15 जनवरी रविवार को मनाया जाएगा। यह त्योहार पूरे दिन भर मनाया जाएगा। यदि स्नान दान की बात करें तो दोपहर का समय बहुत ही फलदाई रहने वाला है।

मकर संक्रान्ति पूजा विधि

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि मकर संक्रांति के दिन भगवान सूर्य उत्तरायण होते हैं। मकर संक्रांति के बाद हिंदूओ के मांगलिक कार्य भी शुरू हो जाते है। मकर संक्रांति के दिन भगवान सूर्य को अर्ध के दौरान जल, लाल पुष्प, अक्षत सुपारी, गेहूं, वस्त्र  आदि अर्पित किया जाता है। मकर संक्रांति त्योहार के दिन गरीबों और जरूरतमंदों को दान भी किया जाता है। मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी का एक विशेष महत्व होता है।

मकर संक्रांति से जुड़ी कुछ प्रमुख धार्मिक और ज्योतिषीय मान्यताएं

-धार्मिक मान्यताओं की बात करें तो मकर संक्रांति के त्योहार के दिन जो देह का त्याग करते हैं उन्हें मोक्ष की प्राप्त होती है।

-इस त्योहार के बाद शरद ऋतु का समापन होता है और बसंत ऋतु का आगमन होता है।

-धार्मिक मान्यताओं की बात करें तो मकर संक्रांति पर सूर्य देव के उत्तरायण होने पर ही भीष्म पितामह ने अपने प्राण त्यागे थे।

-यदि पंजाब प्रांत की बात करें तो मकर सक्रांति को लोहरी के रूप में विशेष तौर पर धूमधाम के साथ मनाया जाता है।

-असम में यह त्यौहार माघ बिहू और भोगली बिहू के रूप में मनाया जाता है।

-मकर संक्रांति का त्यौहार हिंदू में पवित्र त्योहार के रूप में जाना जाता है। मकर संक्रांति के त्योहार के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने की परंपरा बहुत ही पुरानी है। प्रयाग और गंगा जैसी नदियों में बड़ी संख्या में भक्तगण डुबकी लगाकर स्नान करते हैं।

मकर संक्रांति  उपाय

मकर संक्रांति के दिन पानी में  काले तिल व गंगाजल मिलाकर स्नान करें । ऐसा करने पर भगवान सूर्य की आपके ऊपर कृपा होती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य और शनि दोनों का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इस दिन भगवान सूर्य को अर्ग देना बहुत ही शुभ  और लाभकारी माना जाता है।

मकर संक्रांति के दिन यह कार्य जरूर करें

-मकर संक्रांति के दिन पवित्र नदी में स्नान करना लाभकारी माना जाता है।

-इस त्यौहार के दिन गरीब और जरूरतमंदों को दान करने से पुण्य प्राप्त होता है।

-इस त्योहार के दिन पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव करना चाहिए इससे घर में शुद्धता आती है।

-इस त्योहार के दिन गंगा और प्रयाग जैसी नदियों में स्नान करने से जिंदगी भर के पाप कटते  हैं।

-इस त्योहार के दिन भगवान सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए।

-इस त्योहार के दिन सूर्योदय और सूर्यास्त के समय भगवान की आराधना करना चाहिए।

मकर संक्रांति के त्योहार के दिन यह काम ना करें

-इस त्यौहार के दिन सात्विक भोजन का सेवन करना चाहिए।

-इस त्यौहार के दिन किसी भी गरीब व जरूरतमंद का अपमान नहीं करना चाहिए।

-इस त्योहार के दिन किसी भी प्रकार के बासी खाने का सेवन नहीं करना चाहिए ।इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा आती है।

-इस त्योहार के दिन किसी भी प्रकार का तामसी  भोजन जैसे कि मांस, मछली, लहसुन और प्याज का सेवन ना करें।

MAKAR SANKRANTI 2023 कब हैं ?

15 जनवरी को मनाया जाएगा

इसे भी पढ़े :

👉 नवरात्र में 9 दिन के नौ रंग के कपड़े

👉 10वीं 12वीं बोर्ड परीक्षा समय सारणी 2023

👉 शिक्षक दिवस पर हिंदी में भाषण

👉 हरतालिका तीज

👉 टोमेटो फ्लू किसे कहते है

👉 रक्षाबंधन निबंध हिंदी में

👉 गणेश चतुर्थी

👉 पोक्सो अधिनियम 2012

👉 15 अगस्त पर भाषण

👉 रक्षाबंधन निबंध हिंदी में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here