INDIAN RAILWAY INTERESTING FACT: क्या आप जानते हैं कि ट्रेन के कोच में गेट के पास वाली खिड़की पर क्यों होती है ज्यादा रॉड? वजह जानने के लिए इस आर्टिकल को पढ़े

0
4

INDIAN RAILWAY INTERESTING FACT: क्या आप जानते हैं कि ट्रेन के कोच में गेट के पास वाली खिड़की पर क्यों होती है ज्यादा रॉड? वजह जानने के लिए इस आर्टिकल को पढ़े

INDIAN RAILWAY INTERESTING FACT

भारतीय अर्थव्यवस्था को सुधारने में इंडियन रेलवे का बहुत बड़ा हाथ माना जाता है। आज हर कोई आसान कीमत में एक स्थान से दूसरे स्थान तक रेलवे के माध्यम से पहुंच सकता है। इसीलिए तो भारतीय  रेलवे को देश की लाइफ लाइन के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि सस्ते में इससे अच्छा यात्रा का साधन कुछ और मौजूद नहीं है। सस्ता होने के साथ-साथ रेलवे प्रवास बहुत ही सुविधाजनक भी माना जाता है। साथियों आज हम एक ऐसे रेलवे के इंटरेस्टिंग फैक्ट के बारे में बात करने वाले जिसके बारे में आपने कभी भी गौर नहीं किया होगा। तो साथियों आज हम ऐसे फैक्ट के बारे में बात करने वाले जिसे जानने के बाद आप भी कहेंगे कि हां यह कुछ नया है।

साथियों क्या आपने नोटिस किया है कि जब आप ट्रेन के कोच के गेट के पास होते हैं  तो आपने कई बार देखा होगा कि कोच के गेट के पास वाली खिड़की में ज्यादा रॉड लगी होती है। साथियों इस प्रकार की विंडो जिसमें बहुत सारी रोड लगी होती है आप इन्हें सिर्फ कोच के गेट के पास ही देख पाएंगे। और बाकी जो विंडो होती है वहां पर बहुत ही कम रॉड लगी होती है। साथियों चलिए मैं आपको बताता हूं कि  कोच के पास जो विंडो होती है उसमें ज्यादा रॉड क्यों लगी होती है।

साथियों आपने नोटिस किया होगा की ट्रेन की जो खिड़की होती है वह जमीन से काफी ऊंचाई पर होती है। कोच  के गेट के पास वाली विंडो की ऊंचाई भी उतनी ही होती है लेकिन गेट के पास होने के कारण वहां सीढ़ियां होती है। कई बार ऐसा होता है कि ट्रेन को सिग्नल ना मिल पाने के कारण ट्रेन कहीं भी रुक जाती है या आउटर पर खड़ी हो जाती है। अगर ऐसी परिस्थिति पैदा होती है तो ऐसे समय में चोरी होने के खतरे ज्यादा हो सकते हैं।

 अगर किसी कारणवश ट्रेन आउटर पर खड़ी है तो जो सीढ़ियां कोच के पास लगी होती है उनसे सीढ़ियों के माध्यम से कोई भी चोर विंडो में हाथ डालकर आपके सामान को चुरा सकता है l इसीलिए ऐसे कोचों के पास जो खिड़कियां होती है उसमें रॉड ज्यादा लगाये जाते हैं ताकि आपके सामान की रक्षा हो सके ।परंतु अन्य खिड़कियों के पास कोई भी ऐसी सीढ़ियां नहीं होती है जिनसे चोरी होने का खतरा वहां पर नहीं होता है इसीलिए ऐसे विंडो में रॉड की संख्या कम पाई जाती है।

ट्रेन में कोई चोरी ना हो कर सके और आपका सामान सुरक्षित रह सके इस हेतु जो खिड़कियां ट्रेन के कोच के पास होती हैं उनमें ज्यादा रॉड लगाई जाती है।

इसे भी पढ़े :

👉 नवरात्र में 9 दिन के नौ रंग के कपड़े

👉 10वीं 12वीं बोर्ड परीक्षा समय सारणी 2023

👉 शिक्षक दिवस पर हिंदी में भाषण

👉 हरतालिका तीज

👉 टोमेटो फ्लू किसे कहते है

👉 रक्षाबंधन निबंध हिंदी में

👉 गणेश चतुर्थी

👉 पोक्सो अधिनियम 2012

👉 15 अगस्त पर भाषण

👉 रक्षाबंधन निबंध हिंदी में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here